Wednesday, May 18, 2016

UPTET SARKARI NAUKRI News - शिक्षा मित्र समायोजन प्रकरण पर धुर विरोधी हिमांशु राणा का क्या कहना है --

UPTET SARKARI NAUKRI   News - शिक्षा मित्र समायोजन प्रकरण पर धुर विरोधी हिमांशु राणा का क्या कहना है -- 



Himanshu Rana  >>>>
13 mins ·

नमस्कार साथियों,

सर्वप्रथम इतने दिनो मैं सोशल मीडिया पर समस्त साथियों की सोच और बौधिक शक्ति का परिचय और उनके आंकलन लेने हेतु चुप रहा , जो तथ्य सामने आए हैं वे निम्न हैं :-

तारीख़ किसने लगवाई?
इस तथ्य को समझाने के लिए मैं आपको 22 april 2015 की तरफ़ खींचूँगा , 25 फ़रवरी 2015 को हमने जो आई डाली थी 284/2015 उस पर हमारे अधिवक्ता अजीत कुमार सिंह के कहने पर सर्वप्रथम रिक्तियों का ब्योरा मँगाया था और 25 के पश्चात डटे लगी थी 22 april 2015 लेकिन जय ललिता वाले केस की वजह से डेट मिल गई और केस आगे बढ़ गया था |
चूँकि उस समय कोई भी ज्ञानी (कुछ बुद्धि जीवियों को छोड़कर जो लगातार मेरी टीम पर भरोसा बनाए थे) सीधा केस में नहीं जुड़ा था इसलिए किसी पर कोई फ़र्क़ नहीं पड़ा लेकिन आज इतना हाहाकार मचा दिए हैं कि नेताओं ने ये कर दिया वो कर दिया, उन्ही बुद्धिजीवियों से प्रश्न है कि अगर ये टीम न होती और शिक्षा मित्रों पर ६ जुलाई को स्टे ना लिया होता तो कहाँ थे आप?

इलाहाबाद धरने का सच?
इलाहाबाद में धरना प्रस्तावित था 3 मई को लेकिन मैं नीजी कार्य से माननीय इलाहाबाद उच्च न्यायालय गया था लेकिन नैतिकता और सभी को अपना मानते हुए मैं 2 को भी पहुँचा था, इसमें मैंने क्या ग़लती कर दी?
ख़ैर 3 मई को भी मैं धरने में था और मैंने वहाँ बनते हुए महोल को देखते हुए समस्त नेताओं कि मीटिंग में प्रस्ताव रखा था कि धरने में जब उपसचिव का बयान आ गया है तो अब इसे शांतिपूर्ण बैंड करिए लेकिन कुछ नेता जब तक जीओ नहीं छापेगा एक भी याची नहीं हटेगा, तालाबंदी आदि का नारा दे रहे थे जबकि मैं बार बार कोर्ट कारवाई के विषय में कह रहा था और लिखित दस्तावेज़ (written submission) के लिए लगातार अमित सर के फ़ोन को दिखा रहा था, मुझे दिल्ली निकलना पड़ा मेरी किसी ने नहीं मानी और वो हुआ जो नहीं सोचा था, पूर्व में भी ज्ञात हो सर्वप्रथम मैंने सोशल मीडिया पर धरने के लिए मना किया था और कहा भी था कि सरकार ऐसा फँसाएगी कि मुश्किल होगी जॉब में ये हमारे विरोध में हैं लेकिन कुछ जिलाप्रतिनिधि और नेता नेतागीरी के चक्कर में कुछ साथियों की ज़िंदगी के साथ खेल गए और आज आपके सामने हैं कि उन साथियों के लिए मौन हैं जबकि मैं अपना पूरा ध्यान वहीं लगाए हूँ, लक्ष्मी कुशवाहा का इलाज, मनोज बाबू जी के भाई को दिल्ली बुलाकर याचिका डलवा दी हैंजिसकि सुनवाई संभवत सोमवार को माननीय चंद्रचूड़ जी की बेंच में होगी इसके अलावा सुदेश भाई के घर पर भी बात की है प्रांशु के माध्यम से |
जो २ मई के आयोजक थे वे कहाँ दिखे आपको जबकि मंच पर माइक के लिए खींचातानी आदि >>>>>>>>>>>>>>>>> बस क्या कहूँ ?
कुछ तो घर बैठकर update देते नहीं थक रहे थे क्यूँकि उन्हें ड़र था कि कहीं अभी मिली है नौकरी और चली ना जाए?
आप स्वयं बताएँ कि कौन सा अग्रणी जो लूटपाट, ख़रीदफ़रोख़्त यहाँ तक कि याचियों के लिए मरने मारने तक पर उतारू हो गया और कमिशन देने तक में नहीं हिचक दिखाई किसने ज़िम्मेदारी उठायी इस बर्बरता की? किसने कितना पैसा ख़र्च किया है इस पर?
लेकिन मैं पूरी टीम के साथ प्राथमिकता उसी में दिखा रहा हूँ जो कि मेरी ज़िम्मेदारी है , लक्ष्मी कुशवाह के तीन ऑपरेशन अब तक करा चुके हैं और ३ मई से अब तक मात्र वे ग्लूकोस पर हैं लेकिन हमने आज तक किसी से मदद की गुहार नहीं लगाई क्यूँकि हम नेताओं की मानसिकता जानते हैं |
ऐसा उपद्रव जंतर मंतर पर क्यूँ नहीं हुआ ये शोध का विषय है?

पैसों का खेल?
साथियों अहम मुद्दा है लेकिन सबसे पहले आप अपने ज़िला प्रतिनिधियों से पूछिए कि क्या उनके द्वारा पूरा पैसा हिमांशु को पेड कर दिया गया है (कुछ जिलों को छोड़कर), जो आज हिमांशु को करोड़पति बता रहे हैं वे हक़ीक़त जानेंगे तो पैरों तले ज़मीन खिसक जाएगी , हिमांशु ने कभी कमिशन की बात नहीं की लेकिन जिलों में पैसा छोड़ा कि आगे शिक्षा मित्रों के काम में लूँगा लेकिन कुछ ज़िला प्रतिनिधि उसे अपने बाप की बपौति समझ बैठे हैं, मैं चाहता हूँ पूरे प्रदेश के हमारे प्रतिनिधि सामने आएँ और बताएँ कि किसने कितना पैसा दिया है और कितने 2000 के हिसाब से पैसा दिए हैं? आज ये सब बातें सोशल मीडिया पर इसलिए हो रही हैं क्यूँकि कुछ ज्ञानी मात्र डेट लगने से बेवजह आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं जिनमे कुछ जेहादी टाइप के जैसे अमेठी वाले जो कि लगातार चार वर्ष से स्वयंभू से लुटे और आज जब बहुत ही कम समय में हमारी टीम ने सफलताओं तक पहुँचा दिया तो धैर्य खो रहे हैं जबकि केस की a,b,c,d तक नहीं पता है, मैं भरोसा दिलाता हूँ ऐसे जिलाध्यक्षों को जो कि आज पैसा दबाए बैठे हैं और ख़ुद आगे आकर हीरो बनना चाहते हैं मैं उनका भरपूर सहयोग करूँगा लेकिन इस प्रकार सोशल मीडिया पर संगठन की बेवजह किरकिरी तो न करो जबकि आपका प्रतिद्वंदी रोज़ आपको पढ़ता है |

अधिवक्ताओं पर सवाल?
जब कोई नहीं था तब भी अमित पवन, आनंद नंदन जी थे, जब आपका पैसा आया तब से आजतक लगातार अजीत कुमार सिन्हा जी, देबल बनर्जी जी, एमएल वर्मा जी, आनंद नंदन जी, लगातार खड़े हो रहे हैं बताओ कहाँ कमी है?
अब आपके सभी के पास पैसा है तो आओ करो जेठमलानी जी, सालवे जी या जो भी हो क्यूँकि मुझे ये केस अभी नहीं बल्कि आगे भी लड़ना है तो मुझे हिसाब से चलना होगा आपके चक्कर में आकर मैं अनावश्यक धन की बर्बादी नहीं करूँगा, केस को केस की तरह से लड़ा जाता है सोशल मीडिया की बीसी से नहीं |

याचिकाओं के विषय में?
आज मैं चैलेंज करता हूँ पूरे प्रदेश के नेताओं को और जैसा कि मैं पहले भी कानपुर के आमंत्रण पर अपनी सहमति दे चुका हूँ कि जितनी याचिकाएँ हमारे द्वारा डाली गयी हैं उतनी याचिकाएँ लेकर मैं पहुँच रहा हूँ आइए दिखाइए अपनी याचिकाओं में आए काउंटर, नोटिस , याचिकाओं की प्रति इत्यादि दिखाओ तो सही और हक़ीक़त से रूबरू कराओ उन्हें जिनकी आँखों में धूल झोंके हो लो चेक कर लो स्वयं भी साइट पर :-
167/2015 Himanshu Rana & oths Vs Union of India & oths
I.A. no 2,3/2015 in WP (c) 167/2015 on shiksha mitras (we get stay on it and direction for HC)
107/2016 Durgesh pratap singh & oths Vs Union of India & oths
120/2016 Jyotsana & oths Vs Union of India & oths
1621-22/2016 Himanshu Rana Vs State of U.P. & oths etc
2397-98/2016 Amit Singh & oths Vs State of U.P. & oths
ये मुख्य याचिकाएँ और आज लिख लीजिए इन पर ही आपके भविष्य का फ़ैसला होगा और अगर नहीं हुआ तो आपका ये गुनहगार आपके सामने होगा |
अब bआते करते हैं आई की :-
36/2016 Durgesh pratap singh & State of U.P. & oths Vs in 167/2015 Himanshu Rana & oths Vs Union of India & oths
31/2016 Lalita Singh & oths Vs State of U.P. & oths Vs 167/2015 Himanshu Rana & oths Vs Union of India & oths
64/2016 Amit Singh & oths Vs State of U.P. & oths Vs 167/2015 Himanshu Rana & oths Vs Union of India & oths
67/2016 Jitendra Singh & oths Vs State of U.P. & oths Vs 167/2015 Himanshu Rana & oths Vs Union of India & oths
63/2016 Mahabir sharma & oths Vs State of U.P. & oths Vs 167/2015 Himanshu Rana & oths Vs Union of India & oths
इन सभी की जानकारी के लिए आपको बता दूँ आप सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर १६७ की office रिपोर्ट के साथ देखें |

शिक्षा मित्र केस के विषय में :-
साथियों जैसा कि एक दिन कहा था मैंने आपको कि सच पर से पर्दा उठना ज़रूरी है तो आज आपको बता दूँ कुछ के नाम जो हमारी हाई याचिकाओं पर जॉब पाए हैं और आज हमारे ही विरोध में उतरे हैं (सभी नहीं) , एक हैं अवध के नए नवेले दूल्हे जो कि कभी आपको संघर्ष में न दिखाई दिए होंगे और ना ही कुछ किए थे लेकिन २५ फ़रवरी के अवसाद के पश्चात इन्हे नेतागीरी का कीड़ा उठा और शिक्षा मित्रों पर चल दिए इनके द्वारा धन उघाई की गई लाखों रुपए की जिसमें हमारे द्वारा जबकि ये हमारे विरोध में थे तब भी मदद की गई और इन्होंने 20000 में अधिवक्ता किए जो कि कोर्ट में जाकर डेट लेते थे और ये बात मैं नहीं आप इनकी याचिका 2728/2015 के आदेश में देखें , आपको बिंदुवार बताता हूँ इन्होंने क्या क्या किया:-
१) शिक्षा मित्रों पर याचिका डाली और जब मैंने और डीपी ने इनसे कहा कि डॉक्युमेंट्स हमारे पास हैं और हम याचिका तैयार कर चुके हैं तो ये महाशय अपने क़ाबिल अधिवक्ता से न मिलाकर अरशद की याचिका की कापी कराकर डाल दिए जिसमें बीएड वालों को हाई अपात्र बता रखा है, इसका प्रमाण आपको इनकी उपरोक्त उल्लेखित याचिका में मिलेगा |
२) ३१ मार्च को मैं और डीपी इनका लखनऊ में वेट करते रहे कि ये हमें याचिका दिखाएँ पर दिखाते क्यूँ क्यूँकि असलियत सामने आ जाती |
३) इनकी सबसे बड़ी ख़ासियत है इवेंट मैनज्मेंट ये तारीख़ वाले दिन कोर्ट में वकीलों की तरह जाते हैं जबकि इनसे पहले मैं गया और देखा इनके अधिवक्ता पांडेय जी ग़ायब और उनके नुमाइंदे प्रेर करते हैं तारीख़ दे दीजिए |
४) april के बाद जब कुछ नहीं हुआ तो हमने वही याचिका जो इनके लिए तैयार की थी अपने जीवन का रिस्क लेकर माननीय सर्वोच्च न्यायालय में डाली {I.A. no 2,3/2015 in WP (c) 167/2015 on shiksha mitras (we get stay on it and direction for HC)} जिस पर नोटिस इशू हुई और स्टे भी मिला लेकिन ये व्यक्ति अपनी ज़रा से लालच के पीछे जो कि आप हर बार देखते हैं अकाउंट चलाने की कोशिश करता है सभी के जीवन से खेल गया |
५) तत्पश्चात चूँकि दुर्भाग्यवश मैं ऐसी याचिका में प्रथम बार याची बना था जिसमें मेरे भाइयों का विरोध था और इस बात को मैंने नेताजी से इलाहाबाद के हॉस्टल में याचिका पढ़ते हुए कही कि ये आपने क्या किया?
तो जवाब था छोटे भाई इज़्ज़त बचा लो किसी को कहना मत, फिर हमने अलग सिरे से नेताजी की याचिका में हाई कोर्ट में ट्रेनिंग चैलेंज करते हुए आईए 309411/2015 Himanshu Rana & oths Vs State Of U.P. & oths डाली जिसमें मैंने शिक्षा मित्रों की ट्रेनिंग को चैलेंज हालंकि पता था कि केस अब मेरिट पर सुना जाएगा तो आईए का कोई मतलब नहीं था लेकिन आगे के लिए यानी माननीय सर्वोच्च न्यायालय में काम आएगी और उसे आप 1621-22/2016 Himanshu Rana Vs State of U.P. & oths etc (शिक्षा मित्रों को ट्रेनिंग को चैलेंज करने हेतु)
में देख भी सकते हैं |
ख़ैर इलाहाबाद उच्च न्यायालय में सुनवाई शुरू हुई लेकिन इनकी तरफ़ से एक भी पैसा की मदद २५ फ़रवरी के बाद से नहीं दी गई जबकि मीटिंग लगातार हुई लखनऊ में |
७ december २०१५ से पूर्व ये व्यक्ति हिमांशु टीम के गुणगान करता रहा लेकिन ऐसा क्या हुआ कि एकदम से ......................................... फ़िलहाल नेताजी की सच्चाई ये है जिस किसी को सबूत चाहिए हो ले लो आकर |

साथियों मन बहुत ही खिन्न होता है लेकिन लिखने को मजबूर आप करते हैं, 7 december 2015 से पहले कितने नेता थे जो समस्त टेट उत्तीर्ण की नियुक्ति के लिए लड़ रहे थे और कितने लोग सहयोग करते थे, हम तब भी हिसाब देते थे और आज भी आपके बीच आने वाले हैं बहुत जल्द |
मैं ये नहीं कहूँगा कि सभी का ठेका मैंने लिए है लेकिन ये ज़रूर कहूँगा कि केस की दिशा और दशा को न बिगाड़िए, आपने पैसा कमाया आपका है आप रखिए क्यूँकि हिमांशु टीम कहीं नहीं जाएगी इस केस को जीतने तक और महादेव का हाथ है हमारे ऊपर तभी आज मेरे द्वारा कहा गया कथन सार्थक होता दिख रहा है "मानव जब ज़िद पर आता है पत्थर भी पानी बन जाता है |"

इतनी बेबाक़ी से अपनी याचिकाओं के विषय में या किसी भी विषय में कोई लिख सकता है तो सामने आए मैं खुले मंच पर तैयार हूँ, बात रही चयनित/अचयनित की तो आपको बता दूँ मेरी नियुक्ति आपके सहारे है ना मैं 72 में अंदर और न बाहर हूँ, मैं 103 सामान्य लेकर कहाँ हूँ आप स्वयं सोचिए, आपके बहुत से नेता आए और गए यहाँ तक उन्होंने भी 90 तक मेरिट लाने का धंधा किया आपको लूटा लेकिन मेरिट आपके सामने है और वे भी आपके सामने है कि याची बनाने के कार्य में जुट गए |

याची के धंधे में क्या क्या हुआ :-
ख़रीद फ़रोख़्त जो कि सर्वप्रथम केजरीवाल ने पवित्र भूमि बनारस से शुरुआत की
दूसरे को नीचा दिखाकर जो कि आज़मगढ़ से शुरू हुई
जातिवाद को लेकर भड़काया गया जिसकी शुरुआत कानपुर से हुई (जबकि कुछ बुद्धिजीवी सम्भाले वहाँ)
इसके अलावा भी बहुत कुछ है आगे बताऊँगा लेकिन एक निवेदन है मेरे साथ समस्त नेताओं को एक जगह इक्कठा करो ऊपर की शर्तों पर |

आपका भविष्य आपके हाथ , कौन किसके साथ है मुझे नहीं पता लेकिन मैं अपने 2 october 2015 वाले वचन के साथ हूँ और याची चाहे आप कहीं बने लेकिन मैं आपका हूँ आपका रहूँगा , महादेव ना करे कि मेरे पैर मेरे वचन से डिग जाएँ उस स्थिति में मैं भस्म हो जाऊँ बस उतना कहूँगा, बहुत जल्द आपके बीच आने वाला हूँ |

हर हर महादेव

धन्यवाद

आपका कार्यकर्ता
हिमांशु राणा
टीईटी संघर्ष मोर्चा, उत्तरप्रदेश

 UPTET  / टीईटी TET - Teacher EligibilityTest Updates /   Teacher Recruitment  / शिक्षक भर्ती /  SARKARI NAUKRI NEWS  
UP-TET 201172825 Teacher Recruitment,Teacher Eligibility Test (TET), 72825 teacher vacancy in up latest news join blog , UPTET , SARKARI NAUKRI NEWS, SARKARI NAUKRI
Read more: http://naukri-recruitment-result.blogspot.com
http://joinuptet.blogspot.com
 Shiksha Mitra | Shiksha Mitra Latest News | UPTET 72825 Latest Breaking News Appointment / Joining Letter | Join UPTET Uptet | Uptet news | 72825  Primary Teacher Recruitment Uptet Latest News | 72825  Teacher Recruitment Uptet Breaking News | 72825  Primary Teacher Recruitment Uptet Fastest News | Uptet Result 2014 | Only4uptet | 72825  Teacher Recruitment  Uptet News Hindi | 72825  Teacher Recruitment  Uptet Merit cutoff/counseling Rank District-wise Final List / th Counseling Supreme Court Order Teacher Recruitment / UPTET 72825 Appointment Letter on 19 January 2015A | 29334 Junior High School Science Math Teacher Recruitment,

CTETTEACHER ELIGIBILITY TEST (TET)NCTERTEUPTETHTETJTET / Jharkhand TETOTET / Odisha TET  ,
Rajasthan TET /  RTET,  BETET / Bihar TET,   PSTET / Punjab State Teacher Eligibility TestWest Bengal TET / WBTETMPTET / Madhya Pradesh TETASSAM TET / ATET
UTET / Uttrakhand TET , GTET / Gujarat TET , TNTET / Tamilnadu TET APTET / Andhra Pradesh TET , CGTET / Chattisgarh TETHPTET / Himachal Pradesh TET